CORONA को हराने के लिए भारत और WHO ने मिलाया हाथ, साथ मिलकर हरा चुके हैं पोलियो को

नई दिल्ली। भारत द्वारा अपनाए सर्वोत्तम तरीकों और प्रमुख संसाधनों के इस्तेमाल ने ही भारत को पोलियो महामारी पर विजय दिलाने में मदद की। कोरोना महामारी के समय में भी इसी कारनामें को दोहराने का समय आ गया है। इस बात का आभास भारत और विश्व स्वास्थय संगठन को भी है।

भारत के पिछले रिकार्ड को ध्यान में रखते हुए WHO ने भारत के स्वास्थय और परिवार कल्याण मंत्रालय से एक बार फिर  कोरोना को हराने के उदेश्य से हाथ मिलाया है और WHO के राष्ट्रीय पोलियो निगरानी तंत्र और क्षेत्र के अन्य कर्मचारियों को फिर से खड़ा करने और इसके व्यवस्थित उपयोग करने का फैसला किया है ताकि कोरोना से लड़ा जा सके।

 

भारत और WHO ने हमेशा ही अपनी क्षमता, कौशल, और तरीकाकार दुनिया को दिखाया है। दोनों की पूर्ण सजगता और समर्पण से ही पोलियो जैसी महामारी पर काबू पाया जा सका था।

आपको बता दें कि भारत पहले ही पोलियो जैसी बीमारी पर जीत हासिल कर चुका है। 27 मार्च  2014 को WHO ने भारत को पोलियो मुक्त घोषित किया था।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के सहयोग से कोरोना से लड़ने के लिए भारत को उन योजनाओं को फायदा मिलेगा जो पोलियो के समय अपनाई गई थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन देश के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ मिलकर काम करेगा।

विश्व स्वास्थ्य संगठन का राष्ट्रीय पोलियो निगरानी नेटवर्क कोविड-19 सर्विलांस को और मजबूत करने में काम करेगा और इस नेटवर्क का स्टाफ इम्यूनिटी बढ़ाने पर जोर देगा। इस नेटवर्क की मदद से क्षयरोग या अन्य बीमारी से लड़ने में आसानी होगी।

कोरोना से लड़ने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय और डब्ल्यूएचओ दक्षिण-पूर्वी एशिया ने नेशनल पोलियो सर्विलांस नेटवर्क के साथ मिलकर एक पहल की है। भारत ने जैसे पोलियो को हराया था वैसे ही कोरोना को हराने के लिए बेहतर कार्यप्रणाली और उपायों पर काम किया जा रहा है।

जॉन होप्किंस यूनिवर्सिटी द्वारा जारी किए गए डेटा के मुताबिक दुनियाभर में 20 लाख से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं और 1,36,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस ने भारत के स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और उनके नेतृत्व के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने भारत का विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ हाथ मिलाने का भी स्वागत किया। उन्होंने कहा कि एक साथ मिलकर काम करने से हम जरूर इस महामारी पर जीत हासिल करेंगे।

भारत ने साल 2014 में पोलियो को हरा दिया था। स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि उस वक्त भी भारत सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक साथ मिलकर काम किया था और जीत हासिल की थी। भारत और डब्ल्यूएचओ अपने साझा कुशल काम और समर्पण से ही पोलियो को हरा पाने में सक्षम हुआ है।

भारत में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, अबतक ये मामले बढ़कर 12,000 के पार चले गए हैं जबकि 400 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है ।

ऐसे में इस महामारी को काबू करने के लिए भारत को विश्व स्वास्थ्य संगठन का साथ मिला है। डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस ने इस पहल का स्वागत किया है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: