कोटा में फंसे छात्रों के लिए योगी सरकार ने किया 200 बसों का इंतजाम, छात्रों ने किया धन्यवाद

नई दिल्ली। भारत में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के प्रकोप को कम करने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन लागू है। लॉकडाउन की समय सीमा बढ़ने के साथ ही इसके नियमों में और भी ज्यादा सख्ती कर दी गई है। पहले लॉकडाउन के दौरान लोगों की उम्मीद थी कि 14 अप्रैल के बाद उन्हें छूट मिल जायेगी और वे सभी अपने राज्यों की वापस जा सकेंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। राजस्थान के कोटा शहर में अलग-अलग राज्यों के हजारों छात्र फंसे हुए है जो यहां पढ़ाई करने आए थे। ये लोग पिछले कई दिनों से घर वापसी का प्रयास कर रहे हैं। इन लोगों ने अपने-अपने राज्य की सरकारों से भी अपील की थी। जिसके बाद शुक्रवार को कोटा के कोचिंग संस्थानों में पढ़ने वाले बच्चों को वापस लाने के लिए योगी सरकार ने 200 बसें चलवाईं।

वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जिस तरह यूपी सरकार ने उत्तर प्रदेश से राजस्थान के कोटा में आकर पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों वो वापस बुलाया है उसी तरह दूसरे राज्यों के विद्यार्थियों के साथ भी किया जा सकता है। कोटा में रह रहे दूसरे राज्यों के विद्यार्थियों को उनके गृह राज्यों से सहमति मिलने के बाद ही जाने दिया जा सकता है ताकि ये सभी युवा लड़के और लड़कियां परेशान ना हों या उदास ना महसूस करें।

छात्रों की घर वापसी का पूरा प्लान

जानकारी के मुताबिक कोटा में फंसे यूपी के बच्चों को वापस लाने के लिए 200 बसों का काफिला आगरा के बस अड्डे से भेजा गया था। बसों को कोटा भेजने से पहले पूरी तरह से सैनिटाइज भी किया गया था। आगरा के एसपी ने इस बारे में कहा था, “कोटा में जो स्टूटेंड्स फंसे हैं उनको लाने के लिए राज्य सरकार द्वारा बसें चलाई जा रही हैं, वो बसें हम अभी आगरा से रवाना कर रहे हैं।” अंदाजन कोटा में यूपी के दो से ढाई हजार छात्र फंसे हुए हैं, यही वजह है कि इतनी ज्यादा बसें उन्हें वापस लाने के लिए भेजी गई हैं।

आगरा के एसपी (ग्रामीण) प्रमोद कुमार ने बताया कि कोटा में बच्चों को बसों में बैठाया जाएगा। बच्चों को बसों में जनपद वाइज बैठाया जाएगा। इसकी तैयारी के लिए दो सीओ और एक एसडीएम स्तर का अधिकारी पहले चले गए हैं, ताकि वहां अधिकारियों से समन्वय स्थापित करके रखा जाए।” सरकार की तैयारी के मुताबिक कोटा से सारे बच्चे पहले आगरा पहुंचेंगे और इसके बाद सबको जांच के बाद उनके घर भेजा जाएगा।

आगरा के एसपी (ग्रामीण) प्रमोद कुमार ने बच्चों को वापस लाने के लिए की गई तैयारियों को लेकर बताया कि वहां पहले से ही बच्चों का सैग्रिगेशन किया गया है। कोचिंग सेंटर से बात करके एरिया के हिसाब से बच्चों को बैठाकर रखा गया है। हमने ऐसी व्यवस्था की है कि 10 बस पर एक सब इंस्पेक्टर रैंक का अधिकारी इसका प्रभारी रहेगा। साथ ही साथ 100 बसों पर सीओ स्तर का अधिकारी रहेगा, जो समन्वय स्थापित करेगा। पूरी व्यवस्था बनाकर रखेगा।

छात्रों में गृहवापसी की खुशी

कोटा से उत्तर प्रदेश वापस जाने वाले छात्रों से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वह इस सरकार के निर्णय से बहुत खुश थे और उन्होंने यूपी और राजस्थान सरकार को धन्यवाद दिया। वहीं दूसरी ओर अन्य राज्य के छात्रों ने कहा कि हमारे राज्य की सरकारें भी हमें वापस बुलाने की व्यवस्था शीघ्र करें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: