मौलानाओं के सामने घुटने पर आया पाकिस्तान, कोरोना के खतरे को अनदेखा कर मस्जिदों में नमाज पढ़ने की दी खुली छूट

नई दिल्ली। पाकिस्तान में प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति तक ने एक बार फिर मुल्ले मौलवियों के सामने घुटने टेक दिये हैं। कोरोना वायरस जैसी फैल रही जानलेवा महामारी के बीच पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने घोषणा की है कि रमजान के पवित्र महीने में पाकिस्तान की सभी मस्जिदें खुली रहेंगी। अगले हफ्ते से शुरू हो रहे रमजान के दौरान शुक्रवार की नमाज सहित अन्य प्रार्थनाएं मस्जिदों में ही आयोजित की जाएंगी। बता दें कि पाकिस्तान में अभी तक 7 हजार से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके है जबकि 143 लोगों की मौत हो चुकी है।

दरअसल, पाकिस्तान में कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते मामलों के बीच राष्ट्रपति ने पवित्र महीने में मस्जिद में सभाओं के आयोजन के मुद्दे पर मौलवियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए चर्चा के तुरंत बाद इसकी घोषणा की। इसके एक दिन पहले ही राष्ट्रपति ने जमात-ए-इस्लामी प्रमुख, सीनेटर सिराजुल हक और जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम फजल नेता मौलाना फजलुर रहमान सहित धार्मिक और राजनीतिक नेताओं के साथ इस विषय पर वार्ता की थी।

बता दें कि कट्टरपंथी मौलवियों ने महामारी के प्रसार को रोकने के लिए सरकार के निर्देशों की अवहेलना करते हुए मस्जिदों में सामूहिक प्रार्थनाओं को फिर से शुरू करने की घोषणा की थी। सरकार वायरस के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए पांच से अधिक लोगों की प्रार्थना सभाओं पर पहले ही प्रतिबंध लगा चुकी है।

अल्वी ने मस्जिदों में तरावीह (शाम) और शुक्रवार की नमाज के लिए सशर्त अनुमति देने की घोषणा करते हुए कहा कि मौलवियों के साथ 20 दिशानिर्देशों पर सहमती बनी है। जिसमें उपासकों के बीच छह फीट की दूरी रखने, कालीनों को हटाने, मस्जिद के फर्श डिसइंफेक्शन करने और अधिकारियों के साथ सहयोग करना शामिल है। अल्वी ने कहा कि रमजान माफी और मोक्ष का महीना है। उन्होंने उम्मीद जताते हुए कहा कि सभी प्रतिबंधात्मक उपायों से पवित्र महीने के दौरान कोविड-19 के प्रसार पर अंकुश लगाया जाएगा।

गौरतलब है कि सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) सहित दुनिया के अन्य देशों ने भी मस्जिदों में धार्मिक सभाओं को बंद कर दिया है और घर में ही तरावीह (शाम) की नमाज अदा करने का ऐलान किया है, ताकि कोरोना वायरस के प्रसार को रोका जा सकें। वहीं पाकिस्तान है कि वह अपने यहां मुल्ले-मौलवियों की सलाह-मश्वरे से ही काम कर रहा है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: