कैलाश विजयवर्गीय ने ममता को लिखा पत्र, बोले केंद्र व बीजेपी से लड़ना बंद करें, कोरोना से लड़ाई पर ध्यान दें

नई दिल्ली। जहां एक तरफ देश के तमाम राज्य कोरोना से निपटने के अपने प्रयास में जुटे हैं। वहीं पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी पर राजनीति करने के लगातार आरोप लग रहे हैं। ममता बनर्जी पर अब  भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने पत्र लिखकर कोरोना वायरस से जुड़ी कई अव्यवस्थाओं के आरोप लगाए हैं।

कैलाश विजयवर्गीय ने अपने पत्र में लिखा, भारत के प्रधानमंत्री कोरोना महामारी से निपटने के प्रयास में लगातार कार्य कर रहे हैं। इस सिलसिले में उन्होंने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से तीन बार वीडियो काॅन्फ्रेंसिग के जरिए बात भी की। लेकिन आप लगातार प्रधानमंत्री के ऊपर भी सवाल खड़े करती हैं। प्रधानमंत्री द्वारा की गई अपील को आपने गंभीरता से नहीं लिया जिसके चलते आज राज्य में कोरोना के इतने बुरे हालात हैं।

अपने पत्र में विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी से आग्रह किया कि, यह समय पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और  प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी के खिलाफ टकराव का रवैया अपनाने का नहीं है। यह भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और सांसदों के खिलाफ प्रतिशोध का भी समय नहीं है। इस समय राज्य पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वो गहरे दर्द में ये पत्र लिख रहे हैं।

कैलाश विजयवर्गीय ने ममता सरकार पर कोरोना के खिलाफ लड़ाई कमजोर करने का भी आरोप लगाया। पश्चिम बंगाल में महामारी से लड़ने की तैयारियों पर सवाल उठाते हुए विजयवर्गीय ने लिखा है कि, इस समय उन्हें राजनीति करने की बजाय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को अच्छी क्वॉलिटी के पीपीई किट और अन्य सुरक्षा उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित करवानी चाहिए।

विजयवर्गीय ने अपने पत्र में अन्य राज्यों से पश्चिम बंगाल की तुलना करते हुए लिखा है कि एक तरफ जहां दूसरे राज्यों में काफी ज्यादा टेस्ट हुए हैं वहीं बंगाल में सिर्फ 12 हजार से कुछ ज्यादा ही टेस्ट हुए हैं। विजयवर्गीय ने लिखा कि यदि ज्यादा टेस्ट हों तो पश्चिम बंगाल में और भी मामले सामने आ सकते हैं।

अपने पत्र में आंकड़ों के जरिए उन्होंने बताया कि, 27 अप्रैल तक पश्चिम बंगाल में मात्र 12,043 लोगों की ही टेस्टिंग की गई है, जिनमें से 5.79% इन्फेक्टेड निकले हैं। विजयवर्गीय के अनुसार, राज्य में टेस्टिंग नहीं हो रही है और इन्फेक्शन रेट भी ज्यादा है।

विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी पर तुष्टिकरण की राजनीति करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने लिखा, कुर्सी संभालने के पहले दिन से ही ममता बनर्जी तुष्टिकरण की राजनीति में लग गई हैं। आपकी नीतियों ने बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए राज्य को स्वर्ग बना दिया गया है। विजयवर्गीय ने ममता को वो बयान याद दिलाया, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर दुधारू गाय लात भी मारे तो सह लेना चाहिए। भाजपा नेता ने कहा कि इसी ने मुसलमानों को लॉकडाउन का खुला उल्लंघन करने के लिए प्रेरित किया।

विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल सरकार राज्य में लॉकडाउन पालन करवाने में पूरी तरह से असफल रही है।  केंद्रीय से आई टीम का भी विरोध किया जा रहा है, उसके साथ सहयोग नहीं किया जा रहा है। कैलाश विजयवर्गीय ने बताया कि जिस दिन मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में कोरोना से 18 लोगों की मौत होने की बात कही थी, उस दिन राज्य के अधिकारियों ने केंद्र द्वारा भेजे गए ‘इंटर-मिनिस्टीरियल सेंट्रल टीम’ के समक्ष स्वीकार किया था कि मृतकों के असली आंकड़े 57 हैं।

 

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s