क्राइम ब्रांच ने AISA दिल्ली की अध्यक्ष कंवलप्रीत कौर पर UAPA के तहत दर्ज किया मुकद्दमा, फोन जब्त

नई दिल्ली। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में जांच के लिए दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने दिल्ली यूनिवर्सिटी की ऑल इंडिया स्टूडेंट यूनियन (AISA) की अध्यक्ष कंवलप्रीत कौर का मोबाईल फोन जब्त कर लिया है।

न्यू इंडियन एक्सप्रेस पर छपी खबर के मुताबिक, AISA की दिल्ली अध्यक्ष कंवलप्रीत पर IPC की विभिन्न धाराओं सहित दिल्ली में सांप्रदायिक दंगे भड़काने के आरोप में UAPA के तहत भी मुकद्दमा दर्ज किया गया है।

INDIAN EXPRESS

फोन जब्त किए जाने की जानकारी कंवलप्रीत कौर ने खुद अपने ट्वीटर अकाउंट से  भी दी है।

वहीं दिल्ली दंगों को लेकर पुलिस की धरपकड़ जारी है। हाल ही में दिल्ली हिंसा की साजिश में जामिया एल्युमिनाई एसोसिएशन के प्रेसिडेंट शिफा-उर्रहमान को UAPA एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया था। शिफा उर्र रहमान पर दिल्ली में नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में दंगा भड़काने का आरोप है। रविवार को पुलिस ने शिफा को पूछताछ के लिए बुलाया था, पूछताछ के दौरान दिल्ली दंगो में कई जगह उनकी संलिप्तता पाई गई। जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर किया गया था।

इससे पहले स्पेशल सेल ने जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी की मीडिया प्रभारी सफुरा जर्गर और मीरान हैदर को हिंसा की साजिश में गिरफ्तार किया था। इन दोनों को भी UAPA एक्ट के तहत ही गिरफ्तार किया गया था।

दिल्ली में दंगा भड़काने को लेकर, दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने 6 मार्च 2020 को अपनी FIR में  उमर खालिद पर भी संगीन आरोप लगाया है। FIR में कहा गया है कि, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की यात्रा के दौरान  दिल्ली में हुई हिंसा सुनियोजित थी। FIR कॉपी में कहा गया है, जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद और उसके सहयोगियों जो कि अलग-अलग संगठनों से जुड़े हैं ने मिलकर इस हिंसा की साजिश रची थी। साजिश के तहत, उमर खालिद ने दो अलग-अलग स्थानों पर भड़काऊ भाषण दिया और लोगों से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की यात्रा के दौरान सड़कों पर उतरने की अपील की ताकि भारत में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार करने वाले प्रचार का अंतर्राष्ट्रीयकरण किया जा सके।

फरवरी महीने में डोनाल्ड ट्रम्प की भारत यात्रा के दौरान राष्ट्रीय राजधानी में बड़े पैमाने पर सांप्रदायिक दंगे हुए थे।  उत्तर पूर्वी दिल्ली के तकरीबन दर्जन भर इलाकों में हुई हिंसा  में जान-माल को भारी नुकसान हुआ था। हिंसा में कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई और 200 से अधिक लोग घायल हुए थे। उग्र भीड़ ने मकानों, दुकानों, वाहनों, एक पेट्रोल पम्प को फूंक दिया और स्थानीय लोगों तथा पुलिस कर्मियों पर पथराव किया था।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s