जमातियों को समाज का ‘हीरो’ बनाने का सपना हुआ चकना-चूर, प्लाज्मा थेरेपी बनी मौत का कारण

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के इलाज के लिए दुनिया भर में कई तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है, प्लाज्मा थेरेपी का नाम तब सामने आया जब दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल और तबलीगी जमात ने इसका नाम लेना शुरू कर दिया। केजरीवाल ने ही देश में कोरोना के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी को बेहतर बताया, जिसके बाद 2 तबलीगी जमातियों ने अपना प्लाज्मा भी डोनेट किया

अब जिस मरीज का प्लाज्मा थेरेपी से सबसे पहले इलाज किया गया था उसकी मौत हो गयी, ये मरीज कोई ज्यादा बुजुर्ग भी नहीं था, इसकी उम्र 53 साल की थी और ये महाराष्ट्र के मुंबई का रहने वाला था। 53 साल के इस शख्स को कोरोना वायरस हो गया था जिसके बाद इसका प्लाज्मा थेरेपी से इलाज किया गया था, पर इसकी हालत और ख़राब हो गयी और अंततः इस मरीज की मौत हो गयी।

प्लाज्मा थेरेपी बनी मौत का कारण

इस मरीज का और किसी तकनीक से इलाज किया जाता तो कदाचित ये मरीज बच भी जाता, पर बिना शोध प्लाज्मा थेरेपी से इलाज करने के कारण ही इस मरीज की मौत हो गयी, इस मरीज के शरीर में डाक्टरों ने 200 मिली लीटर का डोज डाला था पर इसकी स्तिथि और ख़राब होने लगी और इसके प्राण निकल गए। बुधवार रात को 11 बजकर 30 मिनट पर इस व्यक्ति की मौत हो गयी, प्लाज्मा थेरेपी का डोज देने के बाद इस मरीज ने सही होने के एक भी लक्षण नहीं दिखाए।

केजरीवाल और तबलीगी जमात कर रहे थे खूब प्रचार

इस से पहले केजरीवाल की सरकार प्लाज्मा थेरेपी को लेकर बहुत प्रचार कर रही थी साथ ही मीडिया ये भी खबरें बड़े पैमाने पर चला रही थी की तबलीगी जमात वाले प्लाज्मा थेरेपी के लिए अपना खून डोनेट कर रहे है। अब जब इस थेरेपी के कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई है तो ऐसे में उन सभी लिबरल गिरोहों के मुंह पर ताला लग गया है जो इस प्लाज्मा डोनेशन के जरिए तबलीगी जमात को समाज में हीरो बना रहे थे।

https://platform.twitter.com/widgets.js

लिबरोह ने सोशल मीडिया पर फैलाया प्रपंच

इसमें कोई दो राय नहीं है कि देश में कोरोना वायरस फैलने की वजह तबलीगी जमात के लोग नहीं है। दिल्ली के मरकज से निकले इन जमातियों ने पूरे देश में फैलकर कोरोना जिहाद फैलाने का काम किया है। जगह-जगह लॉकडाउन का उल्लघंन, थूका-थाकी गैंग बनाकर पूरे देश में इन लोगों ने कोरोना जिहाद फैलाया है। इस बीच जब दिल्ली सरकार ने प्लाज्मा थेरेपी को कोरोना से इलाज का जरिया बताया तो इन जमातियों ने प्लाज्मा डोनेट का प्रपंच रचाना शुरू किया। जिसके बाद लिबरल गिरोह के लोग अपने सोशल मीडिया पर इन जमातियों की मनावता की कहानी गढ़ना शुरू कर दिया और इन्हें समाज में हीरो की तरह पेश करना शुरु किया।

लिबरह गिरोह का मुंह बंद

ऐसे में अब जब महाराष्ट्र में प्लाज्मा थेरेपी से इलाज के जरिए एक युवक की मौत हो गई तो ऐसे में इस थेरेपी को खतरनाक बताया जा रहा है। बता दें कि इस थेरेपी को इस्तेमाल न करने की आसीएमआर ने भी इजाजत नहीं दी थी। हलांकि इसका प्रयोग करने की इजाजत थी। प्लाज्मा थेरेपी के प्रयोग ही खतरनाक हुआ जिसके बाद अब इस थेरेपी पर किसी भी तरह का विश्वास नहीं किया जाता है। तो ऐसे में लिबरलों का मुंह बंद नजर आ रहा है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s