पीएम मोदी ने गैस रिसाव की घटना पर NDMA के साथ की बैठक, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जताया दुख

नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश में एक केमिकल प्लांट से जहरीली गैस होने से 8 लोगों की मौत और 5000 से अधिक लोग बीमार हो चुके हैं। घटना विशाखापट्टनम के आरएस वेंकटपुरम गांव में एलजी पॉलिमर इंडस्ट्री प्लांट की है। गैस के रिसाव के बाद पूरे इलाके को खाली कराया जा रहा है। घटना के बाद से इलाके में अफरातफरी का माहौल है।

वहीं इस घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विशाखापत्तनम में गैस लीकेज की घटना पर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के साथ बैठक की। इस बैठक में उनके साथ गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहे।

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने भी जताया दुख

विशाखापत्तनम के पास हुई गैस रिसाव की खबर से दुखी हूं। पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है। मैं घायलों के जल्द ठीक होने और सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं- राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद।

इससे पहले विशाखापत्तनम की स्थिति के बारे में पीएम नरेंद्र मोदी ने आंध्र प्रदेश के सीएम वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी से बातचीत की थी और उन्हें हर संभव मदद और सहायता का आश्वासन दिया था।

Image

गैस लीक की घटना परेशान करने वाली है – गृहमंत्री 

गैस लीक की घटना पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि, विजग में गैस लीक की घटना परेशान करने वाली है, हम लगातार और करीब से घटना की निगरानी कर रहे हैं। मैं विशाखापट्टनम के लोगों की भलाई के लिए प्रार्थना करता हूं।

रक्षी मंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट कर विशाखापत्तनम में हुई घटना पर दुख जताया उन्होंने ट्वीट कर लिखा, विशाखापत्तनम में हुई घटना से आहत हूं। विशाखापत्तनम में सभी लोगों की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रार्थना करता हूं।

केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने भी इस घटना पर दुख जताते हुए ट्वीटर पर लिखा,-  गैस लीक हादसे से कई लोगों की मृत्यु की ख़बर हृदय विदारक है।दुख की इस घड़ी में मेरी गहरी संवेदनाएं मृतकों के परिजनों के साथ हैं। भगवान से प्रार्थना है कि दिवंगतों की आत्माओं को शांति व घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इस घटना पर दुख जताया है। उन्होंने कहा, मृतकों के परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं,मैं सभी की सलामती की प्रार्थना करता हूं।मैं पार्टी कार्यकर्ताओं से आग्रह करता हूं कि वे सभी स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए प्रशासन के साथ समन्वय कर हर संभव राहत प्रदान करें।

Image

एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल) के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि स्थानीय लोगों ने गले और त्वचा में जलन और कुछ विषाक्त संक्रमण की सूचना दी, जिसके बाद पुलिस और प्रशासन हरकत में आया। लगभग 1000-1500 लोगों को निकाला गया है, जिनमें से 800 से अधिक लोगों को अस्पताल ले जाया गया है।

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि गैस लीक में मरने वाले लोगों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है। स्थिति का जायजा लेने के लिए मैंने राज्य के मुख्य सचिव और डीजीपी से बात की है।

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s