इंदौर में कोरोना मरीजों से पुलिस भरवा रही है ‘वचन-पत्र’, यादि तोड़ा नियम तो जायेंगे जेल

इंदौर। देश में छाए कोरोना काल के बीच सरकार और प्रशासन पूरी मुस्तैदी के साथ डटा हुआ है। इस बीच मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में पुलिस मरीजों से एक बांड भरवा रही है। इस बांड की शर्तों के मुताबिक यदि उन्होंने लॉकडाउन या होम क्वारटाइन का उल्लंघन किया तो उनके खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें जेल भेजा जायेगा।

दरअसल, इंदौर में कोरोना मरीजों व संदिग्धों के उपचार के साथ उनसे एक फॉर्म भरवाया जा रहा है। इसमें नियम-कायदे से रहने की हिदायत दी जा रही है। मरीज स्वयं लिखकर देता है कि नियम तोड़ने पर मेरे विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाए। महामारी अधिनियम और मप्र पब्लिक हेल्थ एक्ट के तहत केस दर्ज कर लें। इतना ही नहीं पुलिस समय-समय पर जांच करने उनके घर भी जाती है। जिस तरह अपराधियों का रिकॉर्ड रखा जाता है, उसी तरह मरीजों का भी रिकॉर्ड रखा जा रहा है।

बता दे कि सरकार ने पिछले दिनों कोरोना उपचार की नई गाइड लाइन जारी की है। इसमें कहा गया है कि यदि किसी में काफी कम लक्षण हों या न हों तो ऐसे पॉजिटिव मरीजों को डॉक्टर होम क्वारंटाइन कर सकते हैं। इसके बाद शहर के विभिन्न इलाकों में मिले मरीजों को होम क्वारंटाइन करना शुरू कर दिया गया है। लेकिन अब इन पर नजर रखना पुलिस-प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती बन गया है।

गौरतलब है कि पुलिस और स्वास्थ्य विभाग ने इसका हल निकाला और मरीज को क्वारंटाइन करने के साथ एक फॉर्म भरवाना शुरू कर दिया। इसे कोविड-19 केस आइसोलेशन का वचन पत्र कहा जाता है, लेकिन मरीज से कहा जाता है कि इसे भरने के बाद आप ‘बाउंड ओवर’ हो गए। इसका उल्लंघन किया तो आपके विरद्ध ऐसा केस दर्ज हो सकता है जिसमें जेल भी हो सकती है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s