इंटरनेशनल चैंबर ऑफ कॉमर्स में पीएम मोदी का संबोधन, ये रही मुख्य बातें

नई दिल्ली। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने 95 वें वार्षिक पूर्ण सत्र के अवसर पर इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (ICC) को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अपने संबोधन में कहा कि जब दुनिया महामारी से लड़ रही है, भारत को परिवर्तित करना है।
पीएम ने कहा कि जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस से लड़ रही है, भारत की लड़ाई अन्य संकटों जैसे बाढ़, टिड्डियों के हमले, ‘पोंगोपाल’ कहर, ओलावृष्टि, असम तेल क्षेत्र में आग और छोटे भूकंपों के साथ हुई है। उन्होंने कहा कि महामारी के खिलाफ लड़ने में हर एक व्यक्ति, लेकिन इस सब के बीच, हर देशवासी अब इस संकल्प से भी भर गया है कि इस आपदा को एक अवसर में बदलना है, हमें इसे देश का एक बड़ा मोड़ बनाना है।

पीएम मोदी के संबोधन की मुख्य बातें
1 जन-केंद्रित, लोगों द्वारा संचालित और ग्रह-अनुकूल विकास दृष्टिकोण अब देश में शासन का एक हिस्सा बन गया है। हमारे तकनीकी हस्तक्षेप ‘लोग, ग्रह और लाभ’ के विचार के साथ भी संगत हैं।
2 हमें विनिर्माण क्षेत्र में बंगाल की ऐतिहासिक उत्कृष्टता को पुनर्जीवित करना होगा। हमने हमेशा सुना है “बंगाल जो आज में सोचता है, भारत उसे कल सोचता है”। हमें इससे प्रेरणा लेनी होगी और एक साथ आगे बढ़ना होगा।
3 स्थानीय उत्पादों के लिए क्लस्टर आधारित दृष्टिकोण जिसे अब भारत में बढ़ावा दिया जा रहा है, सभी के लिए एक अवसर है। इनसे जुड़े समूहों को जिलों, ब्लॉकों में विकसित किया जाएगा, जिसमें वे विकसित किए गए हैं।
4 किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए हाल के फैसलों ने कृषि अर्थव्यवस्था को गुलामी के वर्षों से मुक्त कर दिया है। अब भारत के किसानों को देश में कहीं भी अपने उत्पाद, अपनी उपज बेचने की स्वतंत्रता मिल गई है।
5 हर उस चीज के लिए जिसे हमें आयात करने के लिए मजबूर किया जाता है, हमें इस बात पर काम करना चाहिए कि उन्हें भारत में कैसे बनाया जा सकता है, भारत को भविष्य में उन्हीं उत्पादों का निर्यातक कैसे बनाया जाए।
6 इस समय हमें भारतीय अर्थव्यवस्था को ‘कमांड और नियंत्रण’ से बाहर निकालना है और इसे ‘प्लग एंड प्ले’ की ओर ले जाना है। यह रूढ़िवादी दृष्टिकोण का समय नहीं है। यह साहसिक निर्णय और साहसिक निवेश का समय है। यह विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी घरेलू आपूर्ति श्रृंखला तैयार करने का समय है।
7 इस देश के प्रत्येक नागरिक ने इस संकट को एक अवसर में बदलने का संकल्प लिया है। हमें इस राष्ट्र के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ बनाना होगा। वह मोड़ क्या है? एक आत्मनिर्भर भारत।
8 दुनिया कोरोनोवायरस से लड़ रही है, भारत भी उससे लड़ रहा है। लेकिन अन्य मुद्दे भी हैं। बाढ़, टिड्डियां, ओलावृष्टि, तेल के कुएं में आग, छोटे भूकंप, दो चक्रवात – हम इन सभी को एक साथ लड़ रहे हैं।
भारत के आर्थिक मोर्चे पर एक कठिन समय का सामना करने के साथ ही देश के विकास को प्रभावित करने वाले, कोरोनावायरस से प्रेरित लॉकडाउन के कारण दो महीनों के लिए निलंबित कर दिया गया था, क्योंकि यह पता महत्वपूर्ण है। देश ने अब अपना अनलॉकिंग चरण शुरू कर दिया है और शहर गतिविधियों और आवागमन के साथ फिर से गूंज रहे हैं। मॉल, होटल और धार्मिक स्थल भी धीरे-धीरे खुलने लगे हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s